“इस्लामी पोशाक पहनने के बाद मुझे इतना आदर और सम्मान आज से पहले कभी नहीं मिला” – सारा बोक्केर

0
54


“पहले मैं मुसलमान नहीं थी, इस वजह से मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगी कि पर्दा करके हर औरतों को इससे खुशी और इज्जत पाने का अधिकार है, जैसा कि मैंने यह हासिल किया। पहले बिकनी मेरी आजादी का प्रतीक थी, जबकि सच्चाई यह है कि बिकनी ने मुझे आध्यात्मिकता, सच्चे मानव मूल्यों और इज्जत से दूर कर दिया था। मुझे साउथ बीच की पश्चिमी भव्य जीवनशैली और बिकनी छोडऩे में जरा भी संकोच महसूस नहीं हुआ क्योंकि उस सबको छोड़कर अपने रब की छांव में सुकून और चैनपूर्ण जिंदगी जी रही हूं।

इस्लामी परिधान में मैं उसी रास्ते से गुजरती थी जिस पर कुछ दिन पहले मैं शॉटर्स और बिकनी पहनकर गुजरा करती थी। हालांकि उस रास्ते में लोग, शॉप्स, चेहरे वही थेेेे लेकिन एक चीज जुदा थी और वह थी मुझे मिलने वाली इज्जत और सुकून। उस गली में जो चेहरे मेरे जिस्म को शिकार के रूप में देखते थे, वे अब मुझे नए नजरिए और सम्मान के साथ देखने लगे। मैंने फैशनेबल सोसायटी के ऊपरी दिखावे के फैशन की जंजीरों को तोड़ दिया जो मुझे गुलाम बनाए हुए थी। सच्ची बात तो यह है कि मुझे एहसास हुआ कि मानो मेरे कंधों से बहुत बड़ा बोझ उतर गया हो। मेरे ऊपर दूसरों के सामने अच्छा दिखने का दबाव और सोच मेरे जेहन से निकल चुकी थी। कई लोग मुझे आश्चर्य से देखते, कुछ दया की दृष्टि से और कुछ जिज्ञासा से।”

-अमेरिका की पूर्व मॉडल, फिल्म एक्टे्रस, फिटनेस इंस्ट्रेक्टर सारा बोक्केर

अमेरिका की पूर्व मॉडल, फिल्म एक्टे्रस, फिटनेस इंस्ट्रेक्टर सारा बोक्केर ने अपनी ऐशो आराम और विलासितापूर्ण जिंदगी को छोड़कर इस्लाम अपना लिया। बिकनी पहनकर खुद को पूरी तरह आजाद कहने वाली सारा अब खुद इस्लामी परिधान ‘हिजाब’ पहनती हैं और कहती है कि महिला की सच्ची आजादी पर्दा करने (हिजाब) में है ना कि आधे – अधूरे कपड़े पहनकर अपना जिस्म दिखाने में।

पढि़ए सारा बोक्केर की जुबानी कि कैसे वो अपने ठाठ – बाठ वाली जिंदगी को छोड़कर इस्लाम की शरण में आई:

मैं अमेरिका के हार्टलैंड में जन्मी। अपने आसपास मैंने ईसाई धर्म के विभिन्न पंथों को पाया। मैं अपने परिवार के साथ कई मौकों पर लूथेरियन चर्च जाती थी। मेरी मां ने मुझे चर्च जाने के लिए काफी प्रोत्साहित किया और मैं इस तरह लूथेरियन चर्च की पक्की अनुयायी बन गई। मैं ईश्वर में पूरा यकीन करती थी लेकिन चर्च से जुड़े कई रिवाज मुझे अटपटे लगते थे और मेरा इन बातों पर भरोसा नहीं था जैसे कि चर्च में गाना, ईसा मसीह और क्रॉस की तस्वीरों की पूजा और ‘ईसा की बॉडी और खून’ को खाने की परंपरा।

धीरे-धीरे मैं अमेरिकी जीवनशैली में ढलती गई और और आम अमेरिकी लड़कियों की तरह बड़े शहर में रहने, ग्लेमरस लाइफ-स्टाइल, ऐशो आरामपूर्ण जिंदगी पाने की तलब मुझमें बढ़ती गई। भव्य जीवनशैली की चाहत के चलते ही मैं मियामी के साउथ बीच में चली गई जो कि फैशन का गढ़ था। मैंने वहां समुद्र के किनारे घर ले लिया। अपना ध्यान खुद को खूबसूरत दिखाने पर केन्द्रित करने लगी। मैं अपने सौदंर्य को बहुत महत्व देती थी और ज्यादा से ज्यादा लोगों का ध्यान खुद की ओर चाहती थी। मेरी ख्वाहिश रहती थी कि लोग मेरी तरफ आकर्षित रहे। खुद को दिखाने के लिए मैं रोज समुद्र किनारे जाती। इस तरह मैं हाई फाई लाइफ स्टाइल और फैशनेबल जीवन जीने लगी।

धीरे-धीरे वक्त गुजरता गया लेकिन मुझे एहसास होने लगा कि जैसे-जैसे मैं अपने स्त्रीत्व को चमकाने और दिखाने के मामले में आगे बढ़ती गई, वैसे-वैसे मेरी खुशी और सुख-चैन का ग्राफ नीचे आता गया। मैं फैशन का गुलाम बनकर रह गई थी। मैं अपने खूबसूरत चेहरे का गुलाम बनकर रह गई थी। मेरी जीवनशैली और खुशी के बीच गैप बढ़ता ही गया। मुझे अपनी जिंदगी में खालीपन सा महसूस होने लगा। लगता था बहुत कुछ छूट रहा है। मानो मेरे दिल में सुराख हो। खालीपन की यह चुभन मेरे अंग-अंग को हताश, निराश और दुखी बनाए रखती थी। किसी भी चीज से मेरा यह खालीपन और अकेलापन दूर होता नजर नहीं आता था। इसी निराशा और चुभन के चलते मैंने शराब पीना शुरू कर दिया। नशे की लत के चलते मेरा यह खालीपन और निराशा ज्यादा ही बढ़ते गए। मेरी इन सब आदतों के चलते मेरे माता-पिता ने मुझसे दूरी बना ली। अब तो मैं खुद अपने आप से भागने लगी।

फिटनेस इन्सट्रक्टर आदि के काम में मुझे जो कुछ पैसा मिलता वह यूँही ही खर्च हो जाता। मैंने कई क्रेडिट कार्ड ले लिए, नतीजा यह निकला कि मैं कर्ज में डूब गई। दरअसल खुद को सुंदर दिखाने पर मैं खूब खर्च करती थी। बाल बनाने, नाखून सजाने, शॉपिंग माल जाने और जिम जाने आदि में सब कुछ खर्च हो गया। उस वक्त मेरी सोच थी कि अगर मैं लोगों के आकर्षण का केन्द्र बनूंगी तो मुझे खुशी मिलेगी। लोगों के देखने पर मुझे अच्छा लगेगा। लेकिन इस सबका नतीजा उल्टा निकला। इस सबके चलते मेरे दुख, निराशा और बेचैनी का ग्राफ बढ़ता ही गया।

इन सब हालात से उबरने और इसका इलाज तलाशने के लिए मैंने सालों लगा दिए। मैंने सुकून हासिल करने के लिए मनोविज्ञान, किताबों और एक्सरसाइज आदि का भी सहारा लिया। मुझे इनसे अपने जीवन को सही तरीके से शुरू करने की शक्ति मिली। सुख चैन हासिल करने के लिए मैंने विभिन्न धर्मों का अध्ययन करना शुरू किया। अध्यात्म में दिलचस्पी लेने लगी। मैंने ध्यान और योग को भी समझने की कोशिश की। मैं इस तरफ ज्यादा ही जुट गई, मैं चाहती थी कि मुझे यह स्पष्ट हो जाए कि मुझे क्या करना चाहिए और किस तरह करना चाहिए। मैं अपनी जिंदगी के लिए एक तरीका और नियम चाहती थी लेकिन मैं इस तथाकथित उदारवादी और स्वच्छंदतावादी माहौल में यह हासिल नहीं कर पाई।

इसी दौरान अमेरिका में 9/11 वाला आतंकवादी हमला हुआ। इस घटना के बाद इस्लाम पर चौतरफा हमले होने लगे। इस्लामी मूल्यों और संस्कृति पर सवाल उठाए जाने लगे। हालांकि उस वक्त इस्लाम से मेरा दूर-दूर तक का वास्ता भी ना था। इस्लाम को लेकर उस वक्त मेरी सोच थी कि जहां स्त्रियों को कैद रखा जाता है, पीटा जाता है तथा यह दुनियाभर में आतंक का कारण है।

इस बीच मैं अंतरराष्ट्रीय संबंधों का भी अध्ययन करने लगी। अमेरिकी इतिहास और इसकी विदेश नीति का बदसूरत सत्य को भी जाना। जातीय भेदभाव और जुल्म को देखकर मैं कांप गई। मेरा दिल टूट गया। दुनिया के दुखों ने मुझे दुखी बना दिया। मैंने तय किया कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में लोगों पर हो रहे जुल्म के खिलाफ मुझो भी कुछ करना चाहिए। मैं इंटरनेट के जरिए हाई स्कूल और कॉलेज के स्टूडेंट्स को मध्यपूर्व के लोगों के साथ की जा रही अमेरिकी नाइंसाफी और अत्याचार के बारे में जानकारी देने लगी।

यही नहीं मैं स्थानीय कार्यकत्र्ताओं को साथ लेकर इराक के खिलाफ होने जा रहे अमरीकी युद्ध के विरुद्ध प्रदर्शन में जुट गई। अपने इसी मिशन के दौरान में एक अद्भुत शख्स से मिली, जो मुसलमान था। वह भी इराक युद्ध के खिलाफ प्रदर्शन में लगा हुआ था। इससे पहले मैंने ऐसे किसी शख्स को नहीं देखा जो अपने मिशन के प्रति इस तरह जी जान से जुटा हो। वह इंसाफ और इंसानी हकों के लिए कार्यरत था। उस व्यक्ति ने इस मिशन के लिए अपनी एक संस्था बना रखी थी। मैं भी उसकी संस्था से जुड़ गई।

उसके साथ काम करने के दौरान मैंने उससे इस्लामी सभ्यता, पैगम्बर मुहम्मद (सल्ल.) और उनके साथियों के कई किस्से सुने। इससे पहले मैंने इनके बारे में ऐसा कुछ नहीं सुना था। यह सुनकर मैं दंग रह गई। मैं इन बातों से बेहद प्रभावित हुई। मैं इस्लाम से प्रभावित होकर इसका अध्ययन करने लगी और मैंने कुरआन भी पढ़ी। कुरआन की शैली और अंदाज ने मुझो अपनी तरफ खींचा। मैंने महसूस किया कि कुरआन इंसान के दिल और दिमाग पर गहराई से असर छोड़ता है। दरअसल जिस सच्चाई की मुझे तलाश थी वह मुझो इस्लाम में मिली।

बावजूद इसके शुरू में इस्लाम को लेकर मेरे दिल में कुछ गलतफहमियां थीं जैसे मैं समझ नहीं पाई थी कि आखिर मुस्लिम औरतें पूरा बदन ढकने वाली यह अलग तरह की पोशाक क्यों पहनती हैं?

मैं सोचती थी कि मैं कभी इस तरह की पोशाक नहीं अपनाऊंगी । उस वक्त मेरी सोच बनी हुई थी कि मैं वह हूं जो सबको दिखती हूं, अगर दूसरे लोग मुझे देख ही नहीं सकेंगे तो आखिर मेरा अस्तित्व ही कहां बचा?

मुझे लगता था खुद को दिखाना ही मेरी पहचान और अस्तित्व है। अगर दूसरे लोग मुझे देख ही नहीं सकते तो फिर मेरा अस्तित्व ही कहां रहा?

मैं सोचती थी आखिर वे कैसी स्त्रियां हैं जो सिर्फ घर में रहे, बच्चों की ही देखभाल करे और अपने पति की सुने। ऐसी औरतों का आखिर क्या अस्तित्व है?

अगर वह घर के बाहर जाकर खुद की पहचान ना बनाए तो आखिर क्या जिंदगी हुई ऐसी औरतों की?

पति की स्वामीभक्त बने रहने से आखिर क्या मतलब?

मैंने महिलाओं से जुड़े अपने इन सभी सवालों के जवाब इस्लाम में पाए। ये जवाब तर्कसंगत, समझ में आने वाले और महत्वपूर्ण थे। मैंने पाया कि इस्लाम एक धर्म ही नहीं जिंदगी जीने का तरीका है। इसमें सब तरह के इंसानों के लिए हर मामले में गाइड लाइन है। जिंदगी से जुड़े हर एक पहलू पर रोशनी डाली गई है। छोटी-छोटी बातों में भी दिशा निर्देश है जैसेे-खाना कैसे खाना चाहिए ? सोना कैसे चाहिए? आदि आदि।

मुझे यह सब कुछ अद्भुत लगा। यह सब कुछ जानने के बावजूद मैंने खुद को इस्लाम को समर्पित नहीं किया। दरअसल इस्लाम के मुताबिक चल पाना मुझे मुश्किल लग रहा था। इसमें जिम्मेदारी बहुत थी। मैं स्वभाव से एक जिद्दी किस्म की लड़की थी और ऐसे में ईश्वर के प्रति पूरी तरह समर्पण मेरे लिए मुश्किल था।

जनवरी 2003 की बात है। सर्द रात थी। मैं वाशिंगटन डीसी से प्रदर्शन करके बस से लौट रही थी। मैं सोचने लगी, मैं जिंदगी के कैसे चौराहे पर खड़ी हूं। मैं अपने काम से नफरत करती हूं, पति को छोड़कर मैं अलग हो गई हूं, जंग के खिलाफ लोगों को एकत्र करते-करते मैं ऊब गई हूं। मेरी उम्र 29 साल थी लेकिन मेरे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि आखिर मैं करूं तो क्या करूं?

मैं पूरी तरह टूट चुकी थी। मैं रोने लगी और अपने आप से सवाल करने लगी। मैं एक अच्छी इंसान बनना चाहती हूं और इस दुनिया को भी अच्छा बनाने की कोशिश करना चाहती हूं लेकिन सोचती थी आखिर कैसे हो यह सब कुछ? आखिर मुझे करना क्या चाहिए?

मुझे अपने अंदर से ही इसका जवाब मिला………..मुसलमान बन जाओ। ……..यही है कामयाबी का रास्ता।

मेरे दिल में यह जवाब आते ही मुझे एक अलग ही तरह के सुकून और चैन का एहसास हुआ। मैं खुशी और उत्साह से भर गई। मानो मेरे ऊपर शांति की चादर छा गई हो। मुझे लगा मुझे अपनी जिंदगी का मकसद मिल गया और जिंदगी जीने का कारण भी। जिंदगी तो जिंदगी ही है, यह इतनी आसान भी नहीं है लेकिन मेरे पास तो जीने के लिए अब मार्गदर्शक पुस्तक कुरआन है।

एक सप्ताह बाद एक मस्जिद की नींव लगाने के लिए इकट्ठा हुए लोगों के सामने मैंने कलमा ए शहादत पढ़कर इस्लाम अपना लिया। मैंने स्वीकार किया कि अल्लाह एक ही है, उसके अलावा कोई इबादत करने लायक नहीं है और मुहम्मद (उन पर शांति हो) अल्लाह के बंदे व रसूल हैं। वहां सभी मुस्लिम बहनों ने मुझे गले लगाया। मेरी आंखों में खुशी के आंसू थे।

मैं दूसरे दिन बाजार से इस्लामी परिधान हिजाब खरीद लाई और उसी दिन से मैंने इस्लामी पोशाक पहनना शुरू कर दिया।

इस्लामी परिधान में मैं उसी रास्ते से गुजरती थी जिस पर कुछ दिन पहले मैं शॉटर्स और बिकनी पहनकर गुजरा करती थी। हालांकि उस रास्ते में लोग, शॉप्स, चेहरे वही थेेेे लेकिन एक चीज जुदा थी और वह थी मुझे मिलने वाली इज्जत और सुकून। उस गली में जो चेहरे मेरे जिस्म को शिकार के रूप में देखते थे, वे अब मुझे नए नजरिए और सम्मान के साथ देखने लगे। मैंने फैशनेबल सोसायटी के ऊपरी दिखावे के फैशन की जंजीरों को तोड़ दिया जो मुझे गुलाम बनाए हुए थी। सच्ची बात तो यह है कि मुझे एहसास हुआ कि मानो मेरे कंधों से बहुत बड़ा बोझ उतर गया हो। मेरे ऊपर दूसरों के सामने अच्छा दिखने का दबाव और सोच मेरे जेहन से निकल चुकी थी। कई लोग मुझे आश्चर्य से देखते, कुछ दया की दृष्टि से और कुछ जिज्ञासा से।

सच्चाई यह है कि इस्लामी पोशाक पहनने के बाद मुझे लोगों के बीच इतना आदर और सम्मान मिला जो मुझे आज से पहले कभी नहीं मिला था। यह तो अल्लाह ही का करम था। जिस करिश्माई मुस्लिम शख्स ने मेरा इस्लाम से परिचय कराया था बाद में मैंने उसी से शादी कर ली।

मेरे इस्लामी जिंदगी अपनाने के थोड़े ही दिनों बाद खबरें आने लगीं कि कुछ राजनेता और कथित मानवाधिकार कार्यकत्र्ता बुर्के का विरोध कर इस्लामी परिधान को महिलाओं के दमन और उन पर जुल्म का कारण बताने लगे। मिस्र के एक अधिकारी ने तो बुर्के को मुस्लिम औरतों के पिछड़ेपन का प्रतीक तक बता डाला। मुझे यह सब पाखंड नजर आने लगा। मेरे समझ में नहीं आता आखिर पश्चिमी देशों की सरकारें और मानवाधिकार संगठन जब औरतों के संरक्षण के लिए आगे आते हैं तो उन पर एक ड्रेस कोड क्यों थोप देते हैं?

मोरक्को, ट्यूनिसिया, मिश्र जैसे देशों में ही नहीं बल्कि पश्चिमी लोकतांत्रिक कहे जाने वाले देश ब्रिटेन, फ्रं।स, हॉलेंड आदि में हिजाब और नकाब पहनने वाली औरतों को शिक्षा और काम करने से रोक दिया जाता है। मैं खुद महिला अधिकारों की हिमायती हूं। मैं मुस्लिम महिलाओं से कहती हूं कि वे अपने पतियों को अच्छे मुसलमान बनाने की जिम्मेदारी निभाएं। वे अपने बच्चों की परवरिश इस तरह करें कि बच्चे पूरी इंसानियत के लिए रोशनी की मीनारें बन जाए। हर भलाई से जुड़कर भलाई फैलाएं और बुराई से रोकें। सदा सच बोलें। हक के साथ आवाज उठाएं और बुराई के सामने आवाज उठाएं।

मैं मुस्लिम औरतों से कहती हूं कि वे मुस्लिम परिधान हिजाब और नकाब पहनने का अपना अनुभव दूसरी औरतों तक पहुंचाएं। जिन महिलाओं को हिजाब और नकाब पहनने का मौका कभी ना मिला हो उनको बताएं कि इसकी हमारी जिंदगी में क्या अहमियत है और हम दिल से इसे क्यों पहनती हैं। हम मुस्लिम महिलाएं अपनी मर्जी से पर्दा करती हैं और हम इसे कत्तई छोडऩे के लिए तैयार नहीं है।

पहले मैं मुसलमान नहीं थी, इस वजह से मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगी कि पर्दा करके हर औरतों को इससे खुशी और इज्जत पाने का अधिकार है, जैसा कि मैंने यह हासिल किया। पहले बिकनी मेरी आजादी का प्रतीक थी, जबकि सच्चाई यह है कि बिकनी ने मुझे आध्यात्मिकता, सच्चे मानव मूल्यों और इज्जत से दूर कर दिया था। मुझे साउथ बीच की पश्चिमी भव्य जीवनशैली और बिकनी छोडऩे में जरा भी संकोच महसूस नहीं हुआ क्योंकि उस सबको छोड़कर अपने रब की छांव में सुकून और चैनपूर्ण जिंदगी जी रही हूं।

मैं पर्दे को बेहद पसंद करती हूं और मेरे पर्दा करने के अधिकार के लिए मैं मरने को भी तैयार हूं। आज पर्दा औरतों की आजादी का प्रतीक है। वे महिलाएं जो हया और हिजाब के खिलाफ बेहूदा और भोंडा पहनावा पहनती हैं, उन्हें मैं कहना चाहूंगी कि आपको एहसास नहीं है कि आप किस महत्वपूर्ण चीज से वंचित है।

मैंने मध्य पूर्व देशों की यात्रा की और अपने पति के साथ अमेरिका से मिस्र शिफ्ट हो गई। मैं अपनी सास के साथ यहां इस्लामी माहौल में जिंदगी गुजारती हूं। मुझे एक सुंदर परिवार मिल गया। इस परिवार से भी बड़े परिवार-मुस्लिम सोसायटी के परिवार की मैं सदस्य बन गई। यह मुझ पर अल्लाह का बहुत बड़ा अहसान है कि मुझे ऐसी जिंदगी हासिल हुई। अब मेरा दुख, निराशा, अकेलापन गायब है।

मैं अब एक सामाजिक ढांचे के तहत जिंदगी गुजार रही हूं। मेरे पथ प्रर्दशन के लिए कुरआन के रूप में किताब है। मैं महसूस करती हूं कि मैं किसी की हूं। मेरा अस्तित्व है। मेरा एक घर है। मेरा खालीपन दूर हो गया है और दिल को पूर्णता का एहसास है। मुझे अल्लाह से उम्मीद है कि वह इस जिंदगी के बाद दूसरी जिंदगी (मौत के बाद की जिंदगी) में भी कामयाबी अता करेगा।

सारा बॉकर अभी ‘द मार्च ऑफ जस्टिस’ की कम्यूनिकेशन डायरेक्टर हैं और ग्लोबल सिस्टर नेटवर्क की संस्थापक है। उनसे srae@marchforjustice.com पर सम्पर्क किया जा सकता है।


Facebook Comments

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY