“जब समाज के लोग अपनी मांगें उठाते हैं तो ध्यान हटाने के लिए राम मंदिर जैसे मुद्दे उछालती है BJP” – राजभर

0
108

उत्तर प्रदेश के मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने अपने ही ‘बॉस’ सीएम योगी आदित्यनाथ के फैसले पर सवाल खड़ा किया है. फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या रखने के फैसले पर आपत्ति जताते हुए ओम प्रकाश राजभर ने कहा है कि ये बीजेपी का ड्रामा है. राजभर ने कहा कि जब भी पिछड़े और दबे कुचले समाज के लोग अपनी मांगों को उठाते हैं, उससे ध्यान हटाने के लिए बीजेपी इन मुद्दों को उछाल देती है.

ओम प्रकाश राजभर ने बीजेपी सरकार द्वारा लगातार शहरों के नाम बदलने के फैसले पर सवाल खड़ा किया. ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि बीजेपी को पहले अपने मुस्लिम नेताओं के नाम बदलने चाहिए. उन्होंने कहा, “बीजेपी ने मुगलसराय और फैजाबाद के नाम बदल दिये, वे कहते हैं कि इनका नाम मुगलों के नाम पर रखा गया था, उनके एक राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं शाहनवाज हुसैन, केन्द्रीय मंत्री हैं मुख्तार अब्बास नकवी और यूपी के मंत्री हैं मोहसिन रजा, ये बीजेपी के तीन मुस्लिम चेहरे हैं, बीजेपी को पहले इनका नाम बदलना चाहिए.”

राजभर ने कहा कि मुसलमानों ने भारत को बहुत कुछ दिया है और इससे इनकार नहीं किया जा सकता है. राजभर ने कहा आज भाजपा की सरकार है लेकिन महंगाई की मार जनता झेल रही है. कोई सत्ता पक्ष का बड़ा नेता सड़क पर उतरकर आंदोलन नही कर रहा है. सब चुप्पी साधे हुए हैं. उन्होंने कहा, “जो मुसलमानों ने दिया है वो किसी ने नहीं दिया. क्या हमें जीटी रोड को नकार देना चाहिए, लाल किला को किसने बनवाया? ताजमहल को किसने बनवाया?”

बता दें कि 6 नवंबर को अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान सीएम ने फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने की घोषणा की थी. इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन रखा था. विपक्षी दलों समेत कई संगठनों ने इस फैसले की निंदा की थी.