दिल्ली : “फाइव स्टार होटल में लगी आग, महेंद्र सिंह धोनी सुरक्षित निकाले गए, विजय हजारे ट्रॉफी का मैच टला”

0
7


टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आग की चपेट में आने से बाल-बाल बच गए। ये घटना दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल में हुई है, जहां जब आग लगी उस दौरान धोनी भी वहीं मौजूद थे। हालांकि, उन्हें सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है, लेकिन आग के बढ़ जाने की वजह से खिलाड़ियों की किट जल गई।

बता दें कि धोनी यहां झारखंड के लिए विजय हजारे ट्रॉफी का मैच खेलने के लिए आए हैं। मीडिया की खबरों के मुताबिक द्वारका के एक मॉल में आग लगने की वजह से ये घटना हुई है। दरअसल, होटल भी इस मॉल के पास ही है और वहां से आग धोनी के होटल पहुंच गई। आग लगने की घटना के बाद विजय हजारे ट्रॉफी का आज खेला जाने वाला मैच स्थगित कर दिया है। यह मैच अब शनिवार को खेला जाएगा।

महेंद्र सिंह धोनी दिल्ली के होटल में आग लगने के बाद उसमें फंस गए थे। यह आग 17 मार्च को दिल्ली में द्वारका के एक होटल में लगी थी। उस होटल का नाम वेलकम होटल है। मिली जानकारी के मुताबिक, सुबह 6.30 बजे के करीब फायर टेंडर आग बुझाने के लिए पहुंच गए थे। आग बुझाने के लिए पूरे 30 टेंडर पहुंचे थे। धोनी विजय हजारे ट्राफी में खेलने के लिए दिल्ली आए हुए हैं। फिलहाल किसी तरह के नुकसान की जानकारी नहीं है। धोनी के साथ वहां पर झारखंड की पूरी टीम रुकी हुई थी।

झारखंड की टीम एमएस धोनी की कप्तानी में खेल रही है। झारखंड ने विजय हजारे ट्रॉफी के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। पालम मैदान पर बुधवार को खेले गए क्वार्टरफाइनल मुकाबले में झारखंड ने विदर्भ को छह विकेट से हरा दिया था। झारखंड के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने अंदाज के अनुरूप छक्का लगाकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी।

एमएस धोनी 27 गेंदों में 1 चौका और 1 छक्का लगाकर 18 रन बनाए और अंत तक आउट नहीं हुए थे। विदर्भ ने मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था। हालांकि यह फैसला विदर्भ के लिए अच्छा साबित नहीं हुआ और 87 रन के योग पर ही उसने अपने सात विकेट गंवा दिए थे।

मैदान पर दर्शकों ने धोनी का जोरदार स्वागत किया था। धोनी को मैदान पर देख कर सड़क से गुजरने वाले वाहन भी रुक गए और एक दर्शक सुरक्षा रेखा को लांघकर मैदान में आ गया। एमएस धोनी ने उसे निराश नहीं किया था और ऑटोग्राफ देकर वापस भेजा था।


Facebook Comments

NO COMMENTS