नागपुर : “बच्चे को निकली पूंछ, घर वालों ने समझा हनुमान का अवतार”

0
125

इंसान पहले बंदर थे। ये हम सबने पढ़ा सुना है लेकिन माना बहुत कम लोगों ने। जब बताया जाता कि बंदर हमारे पूर्वज थे तो बार-बार यही सवाल आता था कि फिर आखिर पूछ कहां है। पर इस ख़बर को पढ़ने के बाद आपको यकीन हो जाएगा कि भले बंदर से इंसान बन गए हों पर पूंछ आज भी कहीं नहीं गई है।

vestigial-tail_1475754982

बल्कि आज अगर पूंछ उग आए तो कितनी परेशानी होगी। इस ख़बर से आपको ये भी अंदाजा लग जाएगा।

बात नागपुर की है। यहां डॉक्टर्स की एक टीम ने एक बच्चे की पूछ का ऑपरेशन कर उसे अलग किया है। बच्चे की उम्र 18 साल है। पूछ जन्म से ही उसके साथ थी।

vestigial-tail_1475755200शुरुआत में तो घरवालों ने डॉक्टर को भी नहीं दिखाया। उन्हें लगा बच्चा कहीं ‘अवतार’ न हो। लेकिन धीरे-धीरे बच्चा बड़ा होना लगा। पता लगा बच्चा इस अवतार रूपी पूंछ से बड़ा परेशान है।

दरअसल, पूंछ की वजह से उसे उठने, बैठने यहां तक की सोने में भी परेशानी होने लगी। वह स्कूल में भी ठीक तरह से नहीं बैठ पाता था। इतना ही नहीं पूंछ के साथ-साथ दर्द भी होता था।

vestigial-tail_1475755489

आखिरकार, हफ्तेभर पहले मां-बाप बच्चे को लेकर अस्पताल पहुंचे। यहां डॉक्टर्स ने इसी अच्छे से जांच की। इसके बाद दो दिन पहले डॉक्टर्स ने सर्जरी के जरिए पूंछ को बच्चे से अलग कर दिया।

vestigial-tail_1475755108

न्यूरो सर्जरी डिपार्टमेंट के हेड डॉक्टर प्रमोद गिरि ने बताया, ‘सर्जरी कोई जरूरी नहीं थी. लेकिन पूंछ दबने के कारण बच्चे के स्पाइनल कोर्ड से जुड़ गई थी, इसलिए सर्जरी करनी पड़ी. इस तरह के मामले बहुत रेयर हैं। बच्चे की पूंछ ने तो लगभग-लगभग रिकॉर्ड ही बना लिया है।’

vestigial-tail_1475755062

कहां से आई पूंछ?
दरअसल, बच्चा जब गर्भ में पल रहा होता है तो उसकी रीढ़ विकसित होने से पहले पूंछ विकसित होती है। बाद में रीढ़ के विकसित होने पर धीरे-धीरे गायब हो जाती है। लेकिन जब गर्भ में रीढ़ पूरी तरह न बन पाए तो कुछ बच्चे रीढ़ से पहले बनी पूंछ के साथ ही पैदा हो जाते हैं। इस पूंछ में रक्तवाहिकाएं और उत्तक होते हैं और त्वचा से ढकी रहती है।

vestigial-tail_1475755324

आमतौर पर इसे हटाना आसाना होता है लेकिन जब कभी यह रीढ़ से जुड़ जाती है तो सर्जरी के जरिए ही हटाया जाता है।


Facebook Comments

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY