बुरका हमारी आन बान शान है, पहचान है, जितना विरोध होगा, ये उतना ही पॉपुलर होगा – आइजा खान

11
29750

आज तो बुर्के पर पोस्ट देख देख कर मेरा मन भी हुआ चार लाइन लिख ही डालूं ।

दरसल किसी ने कहा जो परदे की हिमायत करती हैं वो फेक हैं तो सोचा आज पिक के साथ पोस्ट की जाये ।

13076725_1602497876743552_1151624506840584827_n

जो खुद को मॉडर्न और परदे का विरोधी बताते हैं। उनकी स्थिति वहाँ देखने लायक होती है, जब ये अपनी बहन बेटी के साथ जा रहे होते हैं और दूसरों की आँखों में हवस को पहचान कर बड़े बेबस हो जाते हैं, और सिर्फ़ खून का घूंट पी कर खामोश रह जाते हैं !

कभी आपने सुना है किसी बुर्के वाली लड़की के लिये ऐसा कॉमेंट —–

छमियां जा रही है …… वाह क्या माल है …… मस्त आइटम है यार ……. और भी भद्दे कॉमेंट होते हैं।

जो लड़कियों के लिये बरदाश्त के लायक नहीँ कोई गैरत्मंद भाई सुन ले तो जान ही लेले।

लेकिन मेरा तो तजुर्बा है बुर्के को देख कर नज़र नीची हो जाती है और आपकी एजुकेशन तो हर जगह बोलती है। आपका लिबास आपकी सोच बता सकता है, ये नहीँ के आप कितनी मॉडर्न हैं और मैंने पर्सनली किसी गैर मुस्लिम को परदे का विरोधी नहीँ देखा ना ही परदा करने वाली को जाहिल समझते देखा।

और संघियों का चिढ़ना तो जायज है। इनकी नारियां तो सारे बंधन तोड़ के आज़ाद हो चुकी हैं। अगर परदे की प्रथा हिन्दुओं में होती तो आज की सशक्त नारी उसे पुरुष समाज के मुँह पर मार चुकी होती। और ये बात सब जानते हैं, इसलिये परदे को दिल से अच्छा मानने वाला हिंदू समाज इसकी मुँह से बुराई करता है।

मैं अपने भाई के साथ विशाखापट्नम जा रही थी। मेरे साथ एक सिख फेमिली थी। उनकी बेटी बहुत एक्सपोजर ड्रेस पहने हुई थी। दो लड़के उसे आँखों ही आँखों में खा जाने को उतारू थे और सरदार अंकल की हालत उस वक्त ऐसी थी के अपनी बेटी को कहाँ छुपा दे। सुबह उन्होंने मुझे बोला, “बेटा मुझे बुर्का बहुत पसंद है। बहुत सम्मान मिलता है।

उन्होंने ऐसा कयू कहा जानते हैं?

क्यों के, उन लड़कों ने मेरे ऊपर एक नज़र भी नहीँ डाली थी! ये एक जिंदा मिसाल है, बुर्के के सम्मान की, उसकी अच्छाई की इस्लाम की देन की ।।

दूसरी मिसाल मेरी फ्रेण्ड के पापा की है। जब उन्होंने बिना बाँह के कुरते के लिये अपनी बेटी को मना किया और कहा के ये हम जानते हैं, ये बच्ची है पर हर दूसरे मर्द की नज़र में ये एक लड़की है। जबकी मेरी फ्रेण्ड की बहन महज़ 14 साल की थी। और मुझे उन्होंने कहा मैं बुर्के का सम्मान करता हूँ अगर हिन्दुओं में ये होता तो मेरी दोनों बेटियाँ पहनती ।।

उसके बाद जब भोपाल में फेस कवर करने पर बेन लगाया गया था ये बोलकर के यहाँ तालिबानीकरण हो रहा है तब मैं अपनी हिंदू फ्रेण्ड के साथ कहीँ जा रही थी। वो हिजाब किये थी तो पोलीस ने रोक कर उनका हिजाब खुलवाया। जब उन्होंने मेरे बारे में कहा के इनका भी खुलवा दो तो पोलीस वाले का जवाब था ये बुर्का है। हम ऐसा नहीँ कर सकते।

जानते हैं उनका क्या जवाब था ——- ठीक है हम लोग बुर्का ख़रीद लेते है !!!

इसके बाद हर हिंदू लड़की ने यही कहा और फ़िरये फ़रमान वापस लेना पड़ा ॥

अब बताईये किसे बुरा लगता है परदा ???

सिर्फ़ उन्हें जो अपने घर की महिलाओं को बाहर परोसते हैं और दूसरे घर की औरतों से यही चाहते हैं ॥॥

बुरका हमारी आन बान शान है पहचान है जितना विरोध होगा ये उतना ही पॉपुलर होगा ॥॥॥


आइजा खान Facebook User है। उनकी लेखनी बेबाक है। 


Share to Others……


*** इस्लाम, क़ुरआन या ताज़ा समाचारों के लिए निम्नलिखित किसी भी साइट क्लिक करें। धन्यवाद।………

www.ieroworld.net
www.myzavia.com

www.taqwaislamicschool.com


Courtesy :
Taqwa Islamic School
Islamic Educational & Research Organization (IERO)

MyZavia


Facebook Comments

11 COMMENTS

  1. Aiza khan aapne bht hi zyada acchha likha h am proud of you and I love u too Aur Aiza Naqaab me ladki bht Khuubsurat b lagti hai aisa b nhi ki naqab me ladki buri lagti ho…..
    Allah aapko aur har muslim ladki kohmesha dushmano ki nazro se bachaye,,,, take care Aiza

  2. Aiza khan aapne bht hi zyada acchha likha h am proud of you and I love u too Aur Aiza Naqaab me ladki bht Khuubsurat b lagti hai aisa b nhi ki naqab me ladki buri lagti ho…..
    Allah aapko aur har muslim ladki kohmesha dushmano ki nazro se bachaye,,,, take care urself

  3. Nice Aziza khan ji aap jitni inteligent hai usse bhi jyada aapki soch achhi hai aaj main ahad karta hun ki apni bahan aur bhabhiyon ke liye burka jarur lunga,apne relation and friend ko bhi burka pahanne ke liye dawat karunga,mujhe bahut afsos ho raha hai ki meri chhoti bahan mujh se bahut bar boli bhai mujhe burka dila do main bolta dubai se ghar aaonga to burka leke aaonga,magar aapki post ne mujhe dil se khush kar diya shukrya Aziza khan ji.

  4. Mahilaon k saath galat behave kis desh me nahi hota?sirf kapdo k aadhaar per hi koi sabhya nahi kaha ja sakta.log burke wali mahila ko bhi vaisi hi havas se dekhte hai jaise non burke wali ko dekhte hain.pahnava koi ho asleel nahi hona chahiye.jab tak hamare andar female k liye samman nahi hoga tab tak kuch badlav nahi aayega.aapne to khud bhi dekha hoga ki western lekin sabhya kapde pahne ladkiya bhi kitni pak saaf hoti hain aur burke wali kitni asbhya?mein burke k khilaf nahi hoon yadi use kattarta se lagu na kiya jaaye.aap bhi jaanti hain ki bharatiya muslim mahilaon ki kya halat hai vo bechari ghar aur bahar har jagah pichdi hain.kewal burka ko hi unki pahchan na banaye balki unhe har vo haq de jisse vo ek sabhya ,developed samaj ka nirmaan kar sake.

  5. Anand bhai Muslim ladkiyan kahi nahi pichdi hai ye aapki soch hai unko har adhikar aur bahot zada samman diya gaya hai aur Islam me ladkiyon Ki bahot izzat hai hiduon Ki tarah nahi ladki ka paida hona hi giri hui aur pichdi Mani jaati Hindu me ladkiyon ko bahot gira mana gaya hai paida hone se pahle hi maardete hai Muslim ladkiyon Ki barabri koi kabhi nahi kar sakta hair

  6. aanad ji aap ne apne coment me bataya k aap burkhe ka virodh nahi karte sun kar achha laga. aur iska matlab ye bhi huaa k aap burkhe ko like karte ho. auyr karna bhi chahiye
    aur aapne ye bhi kaha k aurto ko har haq dena chahiye ye bhi aapki bat sahi he. to me aapko aek bat batadu k islam me aurat ka jo makam he woh kisi majhab me nahi diya gaya agar iske khulashe k liye me aapko batau to bat bahut lambi ho jayengi.
    aur aek bat ye k aapne bataya k pehnava konsha bhi ho aslil nahi hona chahiye to me aapko aek bat batadu insan ka har gunah uski najar se suru hota hai aap aapke upar ye aajma sakte hai. aapjis tarah batate ho k apne perennts k liye sanman hona chaiye. ye bat aapki sahi hai par iska matlab ye bhi nahi k apne perant ko chodke aap kisi aur ko havas nigah se dekh sakte hai agar aurat patle ya aesa libas istemal kare k uska pura badan is tarah se dikhai pade jesha k bina kapdo k to jahir hai k dekhne vala koi bhi inshan usko dekhe ga aur uski nigah jane par vo manhi man gande khayalo me dub jayenga. agar burkha pehna hai aur koi mard havas ki najar se dekhta hai to wo. uski inshaniyat ki bat hai. par jisse kamsekam bacha jaye balki 99 taka burkha pehni hui huvi aurat ko mard itna fast nahi impresh hota. jitna chaddi aur t shir vali aurat ya ladki par
    auarat. jo. sabd hai shayd aapko iska matlab nahi pata uska matlab hi. chupana hai..
    jese aapka nam hai aanad uska mining hai. khushakhushal. hapy.
    aur aek bat auarat ko islam me ijajat hai vo chahe vo libas pehanbsakti hai par. apne. pati k liye vo bhi apni room me aur jo auarte burkha pehnti he aur fir bhi pak saf nahi rehti to uska matlab ye nahi hai k har burka pehnne vali aurat aesi hi hongi.
    kyonki. yaha bat chal rahi hai aurat ki ijjat ki nahi ki uske kapdo ki me aapko aek mishal detahu. shayd aap samje. . auarat ko islam me khajana bataya gaya hai. auar khajane ko ham hamesha chupate hai.

  7. मैं मोहम्मद अकबर अली मैं भी ये गवाही देता हु की मेरा मजहब सचा है और जोभी लरकिया हिजाब को पसंद करे उसे खुद अपना हिफाजत मे रखे और कभी भी अपनी नजर जिका के चले कियु की मेरे सचा मजहब पे को गैर उंगली ना उठाये मुस्लिम भाइयो को सर्मिंदा होना परे हिजाब मे रहो खुदा आपकी निगरानी करेगी जो हिजाब मे नही उसे तो उसका जो हिजाब मे नही उसपे खुदा का लानत हो

  8. Ek bar main bhi kolkata se delhi ja raha tha aur dekha kya ki ek burkhein me aurat aur uske husband ya bhai koi ja rahe thy bada ajib yah laga ki wah kuch der ke liye unhe waha chor kar chale gaye fir kya hua aap soch bhi nhi sakti ek aur ladka aya aur wahi burkhe wali ko waha se le kar chala gaya kuch der bad wah bhai saahab aye aur pooche hamari begam kaha gayi aap me se kisi ne dekha. Kya uske bad unki sakal ronu jaisi ho gayi hum toh aaj tak wah burke wali ke bare me sochte hai akir koun tha wah ladka kaise pasand kiya hoga usse bina sakal dekhey v yah kam …..
    So madam saritar sachi honi chahiye warna burkhey me bhi kuch bhi ho sakta hai
    Aap kuch v pehne aapko jo acha lage par kisi aur par v ungli na uthao

  9. Beshak hijab zaruri h…bura mat maniyega….pls…ap burka pehno to aesa pehno jisme apke jism ki banawat dikhai na de…or m suraj bhai ki bat se b sehmat hu k insan ka kirdar achcha hona chahiye..warna kayi aese b h jo burka pahen kar b galat kam karte h…burka pehno to sahi se pehno…aj kal Burke itni fitting k hote h k Burka pahenkar b jism ki banawat dikhai deti h..fir apka hijab kis kam ka..hijab karna h to aesa karo jaise karne ka hukm h..hijab ko hijab rehne do…fashion mat banao pls….bura laga ho to sorry. From bottom of the heart….