बूँद बूँद से सागर : “इमरान, ज़ाहिद और देश-विदेश के इंसानो ने मिलकर साबित किया की इंसानियत ज़ुल्म के ख़िलाफ़ है”

0
92


विदेशों में कल और देश में आज ईद की नमाज़ अदा की गयी। बल्लबगढ़ के जुनैद की भीड़तंत्र द्वारा हत्या के बाद महज़ कुछ लोगों ने एक शांतिपूर्ण मुहिम चलाई ‘ब्लैक बैंड इन हैंड’, नामी शायर इमरान प्रतापगढ़ी, मीडिया एक्टिविस्ट मुहम्मद ज़ाहिद और उनके साथियों ने वह भी सिर्फ एक दिन पहले।

इसमें तारीफ़ करनी होगी तमाम उन इंसानों की चाहे वह हिन्दू हो, मुस्लिम हो, सिख हों, ईसाई हों, दलित हों या जो भी हों, वह इंसान हैं, उनके दिल में इंसानियत बस्ती है। वह नफरत का जवाब प्यार से देना जानतें है।

इस मुहीम की खास बात यह रही कि कल विदेशों में लोगों ने काली पट्टी बांध कर नमाज़ अदा करके हत्यारी भीड़तंत्र के खिलाफ एहतेजाज किया और आज पुरे देश में लोगों ने काली पट्टी बांध कर नमाज़ अदा करके हत्यारी भीड़तंत्र के खिलाफ एहतेजाज किया। उसके अतिरिक्त जो मुस्लिम नहीं थे उन्होंने भी काली पट्टी बाँह में बांध कर हत्यारी भीड़तंत्र के खिलाफ एहतेजाज किया।

देश भर से जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, उससे यह मुहीम कामयाब हो चुकी है। अब इस हत्यारी भीड़तंत्र को वापस भागने का रास्ता देखने चाहिए क्योंकि इसने भीड़ की शक्ल लेली तो ना ही हत्यारी भीड़ बचेगी और न ही उसका तंत्र।

रविवार को खाड़ी देशों में ईद मनाई गई जहां से भारतीय समुदाय के लोगों ने काली पट्टी बांधकर ईद मनाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की थी और आज देश भर के लोग तस्वीरें शेयर कर रहे हैं

शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने फ़ेसबुक पर लोगों से काली पट्टी बांधकर नमाज़ पढ़ने की अपील की थी। इमरान कहते हैं, “हमारे सामने ईद का त्यौहार है, जो ख़ुशी का दिन है लेकिन इस त्यौहार पर समाज ने हमें तोहफ़े में ख़ून सनी हुई लाशें दी हैं। फ़रीदाबाद में जुनैद और श्रीनगर में अयूब पंडित का वीडियो देखने के बाद ख़ामोश रहना मुश्किल है। कहीं ना कहीं अब बड़े विरोध की ज़रूरत है। काली पट्टी बांधकर हम लोकतांत्रिक तरीके से विरोध कर रहे हैं।”


Facebook Comments

NO COMMENTS