बैतूल मक़दिस पर संयुक्त राष्ट् की असहमति : “येरुशलम का दर्जा इस्राइल और फलस्तीन के बीच बातचीत के जरिए तय किया जाना चाहिए था” – संयुक्त राष्ट् ने लगाई फटकार

0
41


बैतूल मक़दिस (येरुशलम) के मामले में संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका को पड़ी फटकार

वॉशिंगटन। दुनिया को चलाने वाले सबसे बड़े संगठन और प्रभावशाली संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आज अमेरिका अलग थलग पड़ गया। सदस्य देशों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा येरुशलम को इस्राइल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने के फैसले पर अमेरिका से किनारा कर लिया। यहां तक कि ब्रिटेन और फ्रांस जैसे अमेरिका के करीबी सहयोगियों ने भी इस फैसले के लिए अमेरिका को खुलेआम फटकार लगाई।

संयुक्त राष्ट्र की 15 सदस्यीय प्रभावशाली संस्था की आपात बैठक में केवल अमेरिकी राजदूत निक्की हैली ने ही येरुशलम पर ट्रंप के फैसले का समर्थन किया। ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जर्मनी और स्वीडन ने संयुक्त वक्तव्य में कहा, ‘‘येरुशलम को इस्राइल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने और अमेरिकी दूतावास को तेल अवीव से येरुशलम ले जाने की तैयारियों के अमेरिका के फैसले से हम असहमत हैं। यह सुरक्षा परिषद के संकल्पों के अनुरूप नहीं है और क्षेत्र में शांति की संभावनाओं के मद्देनजर भी मददगार नहीं है।’’

उन्होंने कहा कि येरुशलम का दर्जा इस्राइल और फलस्तीन के बीच बातचीत के जरिए तय किया जाना चाहिए ताकि उसके दर्जे पर अंतिम समझौता हो सके। ट्रंप के फैसले का मजबूती से बचाव करते हुए हैली ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को सूचित किया कि अमेरिका ने यह फैसला अच्छी तरह जानते समझते लिया है कि इससे सवाल और चिंताएं उठेंगी।

अमेरिका के द्वारा घोषित फैसले का पूरी दुनिया मे विरोध जताया जा रहा है, फिलिस्तीन मिस्र जॉर्डन तुर्की पाकिस्तान आदि देशों में उग्र विरोध प्रदर्शन हो रहा है। ट्वीटर हैंडल पर हैशटेग योमुल ग़ज़ब के नाम से चलाया जा रहा है, जिसे लाखो लोग ट्वीट और रीट्वीट किया जा चुका। सोशल मीडिया पर फिलिस्तीन की हिमायत में पोस्ट शेयर हो रहे हैं।


Facebook Comments

NO COMMENTS