मार्क ज़ुकेरबर्ग ने अमेरिकी सिनेटर्स के सामने मांगी माफ़ी

0
2

डाटा लीक को लेकर पूरी दुनिया में आलोचना का शिकार होने वाले फेसबुक के संचालक और सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने सोमवार को अमेरिकी कांग्रेस में बाकायदा माफी मांगी है। उन्होंने कैंब्रिज एनालिटिका कांड के लिए खुद को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार मान लिया है। अमेरिकी कांग्रेस के समक्ष उन्होंने लिखित में माफी मांगने के साथ जुकरबर्ग ने माना कि वह फेसबुक के 8.7 करोड़ यूजरों का निजी डाटा सुरक्षित नहीं रख पाने के लिए कुछ अधिक नहीं कर पाए और उसकी हेराफेरी व गलत ढंग से इस्तेमाल होता रहा।

इस दौरान उन्होंने कहा कि फेसबुक के जरिए जो भी गड़बड़ियां हुई है उसके लिए मैं जिम्मेदार हूं। आगे उन्होंने कहा कि चुनावों में लोगों का भरोसा वापस हासिल करने के लिए कोशिश करूंगा। इसके तहत भारत में आगामी चुनावों के दौरान फेसबुक द्वारा पूरी ईमानदारी बरती जाएगी।

जुकरबर्ग ने कहा कि फेसबुक फेक न्यूज, हेट स्पीच, चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप, डाटा की निजता जैसे नुकसान को रोकने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठा पाई। यह बड़ी गलती है और मैं इसके लिए माफी मांगता हूं। उन्होंने सिनेटर्स को विश्वास दिलाया कि भारत में आगामी चुनावों के दौरान ईमानदारी बरतने में अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे।

अमेरिकी कांग्रेस को दी लिखित माफी के बाद मार्क जुकरबर्ग की अगली पेशी अमेरिकी सीनेट के समक्ष भी होगी। उन्होंने स्वीकार किया कि अपने यूजरों के डाटा लीक को लेकर उन्होंने पर्याप्त कद नहीं उठाए इस कारण पिछले कई सालों से इसका दुरुपयोग होता रहा। जुकरबर्ग ने कहा कि मैंने फेसबुक शुरू किया, मैं इसे चलाता हूं और यहां क्या होता है इसके लिए मैं पूरी तरह से जिम्मेदार हूं। अब यह स्पष्ट है कि हम इसके गलत इस्तेमाल को रोकने के संबंध में कुछ नहीं कर पाए। इसमें फर्जी समाचार, चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप और घृणास्पद भाषणों का प्रभाव बढ़ गया।

33 वर्षीय जुकरबर्ग इन दिनों कारोबार में जबरदस्त संकट का सामना कर रहे हैं। वे अब हाउस पैनल के सामने करोड़ों यूजरों के डाटा चोरी होने को लेकर बयान देंगे। आज कांग्रेस पैनल के सामने पेश होने के बाद जुकरबर्ग ने माना कि वे बेहद आदर्शवादी थे और यह समझने में विफल रहे कि दो अरब लोगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले मंच का दुरुपयोग होने से कैसे रोका जा सकता है।


Facebook Comments

NO COMMENTS