“मैं रोहिंग्या मुसलमानों और दुनिया के हर मुसलमान से माफ़ी मांगता हूं” – पाॅप फ़्रांसिस

0
208
Pope Francis meets with a Rohingya refugee during an interreligious meeting at the Archbishop's house in Dhaka on December 1, 2017. Pope Francis arrived in Bangladesh from Myanmar on November 30 for the second stage of a visit that has been overshadowed by the plight of hundreds of thousands of Rohingya refugees. / AFP PHOTO / Vincenzo PINTO (Photo credit should read VINCENZO PINTO/AFP/Getty Images)


प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के कैथोलिक ईसाईयों के नेता पाॅप फ़्रांसिस ने कहा कि रोहिंग्या मुसलमान, दुनिया के सबसे अत्याचार ग्रस्त अल्पसंख्यकों में से एक हैं और संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी इन अल्पसंख्यकों को दुनिया में बिना नागरिकता की सबसे बड़ी जनसंख्या बताया है।

पाॅप फ़्रांसिस, बांग्लादेश की राजधानी ढाका में रोहिंग्या मुसलमानों से जो म्यांमार की सेना के हमलों से जान बचाकर भाग निकले थे, मुलाक़ात के बाद, आख़िरकार रोहिंग्या मुसलमान का शब्द प्रयोग किया।

पाॅप फ़्रांसिस इससे पहले तक इस शब्द से बचते थे और वह इन्हें राख़ीन प्रांत के पलायनकर्ता के नाम से पुकारते थे। पाॅप फ़्रांसिस ने म्यांमार से वापसी के समय कहा कि मैं म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों और दुनिया के हर मुसलमान से माफ़ी मांगता हूं।

पाॅप फ़्रांसिस ने 28 नवंबर से 2 दिसंबर तक रोहिंग्या मुसलमानों, म्यांमार और बांग्लादेश के अधिकारियों से मुलाक़ात करने के लिए इन दोनों देशों की यात्रा पर थे।


Facebook Comments

NO COMMENTS