“राहुल गाँधी के भाषण ने दिल जीत लिया” – शिवसेना

0
25


शिवसेना ने अविश्वास प्रस्ताव पर राहुल गांधी के भाषण की तारीफ की है. शिवसेना का कहना है कि भले ही अविश्वास प्रस्ताव में राहुल की हार हुई लेकिन उन्होंने दिल जीत लिया. बीजेपी पर लगातार निशाना साधने वाली शिवसेना ने अविश्वास प्रस्ताव का बहिष्कार किया था.

नई दिल्ली। अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण की बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने तारीफ की है. शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी की तुलना फ्रांस और क्रोएशिया से की है. शिवसेना ने राहुल को क्रोएशिया कहा है और मोदी को फ्रांस. शिवसेना ने कहा है कि जिस तरह से क्रोएशिया ने विश्वकप फाइनल हार कर भी दिल जीता था, वैसा ही कल संसद में भी हुआ.

कल सभी ने देखा राहुल का नया अवतार- शिवसेना
शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत में कहा है, ‘’नरेंद्र मोदी का भाषण प्रधानमंत्री का भाषण है. मोदी जी, मोदी जी हैं. आज मोदी जी की तुलना किसी से करना ठीक नहीं है, लेकिन उसी टक्कर में राहुल गांधी के भाषण की भी चर्चा हो रही है. राहुल गांधी का नया अवतार कल सदन में सभी ने देखा. उन्हें उसका श्रेय देना होगा.’’

राहुल ने दिल जीत लिया- शिवसेना
संजय राउत ने कहा, ‘’फीफा के फाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को हरा दिया था, लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा क्रोएशिया की ही हुई, क्योंकि उसने सभी का दिल जीत लिया था. राहुल क्रोएशिया हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘’मोदी जी ने कल मिले मौके का पूरा फायदा उठाया. लोगों ने पीएम मोदी को कई बार सुना है, लेकिन कल राहुल गांधी को नए अंदाज में बोलते हुए पहली बार सुना है.’’

संजय राउत ने यह भी कहा, ‘’इसी तरह हमारी भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी शानदार मैच खेलते हैं और कभी बांग्लादेश से हार जाते है तो चर्चा बांग्लादेश की ही होती है.’’ उन्होंने कहा, ‘’सत्ता है तो बहुमत आता है. बहुमत तो नरसिमा राव जी ने भी हासिल किया था, जबकि उनके पास आकड़े नहीं थे. बीजेपी के पास तो आंकड़े हैं.’’

शिवसेना ने क्यों किया क्रोएशिया का जिक्र?
बता दें कि रूस में खेले गए फाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से करारी शिकस्त दी है. साल 1998 के बाद दूसरी बार फ्रांस वर्ल्ड चैम्पियन बना और क्रोएशिया वर्ल्ड कप जीतने से एक कदम दूर रह गया. इस विश्वकप में क्रोएशिया ने अपने प्रदर्शन से सबको चौंका दिया था. महज 46 लाख की जनसंख्या वाले इस देश ने फुटबॉल वर्ल्ड कप में अपनी अलग पहचान बनाई. फाइनल में फ्रांस के हाथों मिली 4-2 की हार से क्रोएशिया का वर्ल्ड कप जीतने का सपना अधूरा रह गया. लेकिन इस टीम ने हार कर भी करोड़ों फैंस का दिल जरूर जीत लिया.


Facebook Comments

NO COMMENTS