रेस्‍तरां के बाहर दलित छात्र की पीट-पीटकर हत्‍या करने का मुख्य आरोपी विजय शंकर गिरफ्तार

0
8

इलाहाबाद में लॉ के छात्र की पीट-पीटकर हत्या के मामले में मुख्य आरोपी विजय शंकर सिंह को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। वारदात के बाद से ही वो फ़रार चल रहा था। बीते शनिवार रात को एक रेस्तरां के बाहर मामूली सी बहस के बाद आरोपी ने अपने लोगों के साथ दिलीप सरोज नाम के दलित छात्र पर हमला कर दिया था। उसके सिर पर लोहे की रॉड से हमला किया गया था। बाद में रविवार को उसकी मौत हो गई थी।

नौ फरवरी की शाम दिलीप (26) अपने दो साथियों के साथ कर्नलगंज स्थित एक होटल में खाना खाने गया था। इस दौरान वह अपने साथियों केे साथ रेस्तरां की सीढ़ियों पर बैठे थे, जब आरोपियों में से एक के पैर से उसका पैर टकरा गया। इसको लेकर शुरू हुई बहस मारपीट में बदल गई. वहां से गुजर रहे एक व्‍यक्ति के मोबाइल फोन से रिकॉर्ड किए गए वीडियो में दिख रहा है कि दिलीप सरोज नाम का शख्‍स रेस्‍तरां की सीढ़ियों पर अचेत पड़ा है। ऐसा लग रहा है कि उसे मार रहे लोग नशे में धुत हैं।

वीडियो में वहां से गुजरता एक व्‍यक्ति रुकता भी जबकि अन्‍य इस पर ध्‍यान नहीं देते। जिन लोगों ने इस घटना को अपने मोबाइल में कैद किया, वो वीडियो में कहते सुने जा सकते हैं कि ‘जब वह मर जाएगा तभी पुलिस आएगी।’

जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने सोमवार को बताया था, “दिलीप के भाई की तहरीर पर तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। सीसीटीवी फुटेज और इस घटना के वायरल हुए वीडियो के आधार पर मुख्य अभियुक्त के तौर पर विजय शंकर सिंह की पहचान की गई है जो भारतीय रेलवे में टीटीई के पद पर कार्यरत है।”

उन्होंने बताया, “कालका होटल के मालिक अमित उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया गया है। वह विजय शंकर सिंह को पहले से जानता था और घटना के समय स्थल पर मौजूद था लेकिन इस घटना की सूचना उसने पुलिस को नहीं दी।” उन्होंने कहा कि शव का पोस्टमार्टम कर उसे उसके परिजनों को सौंप दिया गया है। कुलहरि ने माना कि भरे बाजार में ऐसी घटना की सूचना थाना प्रभारी को नहीं होना, उसकी खुफिया तंत्र की विफलता है। इस घटना की जवाबदेही तय की जाएगी और ड्यूटी में लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों को निलंबित किया जाएगा।


Facebook Comments

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY