वीडियो : “जब तक दलित-OBC, ब्राहम्णों की गुलामी करता रहेगा, तब तक मुसलमानों पर जुल्म होता रहेगा” – वामन मेश्राम, दलित चिंतक

0
51


नई दिल्ली। मशहूर दलित चिंतक और ऑल इंडिया बैकवर्ड एंड माईनेरिटी कम्यूनिटीज इम्पलायमेंट फेडेरेशन के सर्वे सर्वा वामन मेश्राम ने पिछले सप्ताह राजस्थान में हुए अफराजुल हत्याकांड पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने इस जघन्य अपराध पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि जब तक इस देश का आदिवासी, दलित, और ओबीसी ब्राहम्णवाद की गुलामी करता रहेगा तब तक मुसलमानों के साथ इस तरह की घटनाऐं होती रहेंगी।

उन्होंने कहा कि ब्राहम्णवादियों ने एक दलित को बहकाकर उससे एक मुसलमान की हत्या करवा दी और अब हत्यारे के लिये सख्त से सख्त सजा की मांग कर रहे हैं। उन्होंने आरएसएस का हवाला देते हुए कहा कि अब आरएसएस शंभूलाल रेगर के लिये सख्त सजा की मांग कर रही है। उन्होंने अफराजुल के हत्यारे को बेवकूफ करार देते हुए कहा कि जिस धर्म की रक्षा के लिये उसने एक इंसान की हत्या की है उस धर्म ने तो उसे तीन हजार साल से अछूत बना रखा है।

वामन मेश्राम ने कहा कि अफराजुल की हत्या के पीछे गहरी साजिश है उन्होंने कहा कि मीडिया कहती है कि शंभूलाल ने अपने भांजे जो कि नाबालिग यानी बच्चा है उससे हत्या का वीडियो बनवाया, उन्होंने इस पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर किसी बच्चे के सामने किसी इंसान की हत्या की जाती है तो क्या वह उसका वीडियो बना पायेगा ? उन्होंने कहा कि क्या बच्चा हत्या जैसे अपराध का वीडियो बना सकता है ?

उन्होंने कहा कि इस सबके पीछे एक तीसरा शख्स है, और वह शख्स वह है जो लव जिहाद का शौर मचाकर मुसलमानों के खिलाफ नफरत भड़काते हैं। उन्होंने कहा कि एक अपराधी अपराध करने के बाद सूबूत मिटाता है लेकिन यहां सबूत इकट्टा करने की गरज से उसका वीडियो बनाया गया।

वामन मेश्राम ने कहा कि पहले तो शंभूलाल रेगर ने हिन्दुत्व का लठैत बनकर हत्या कर दी और उसका वीडियो बनवा लिया, लेकिन जब उसे होश आया कि अब उसे तो फांसी होगी क्योंकि उसने कत्ल किया है तो वह भाग गया, और पुलिस की गिरफ्त से बचने के लिये छिपने लगा। उन्होंने कहा कि इस सबके पीछे एक तीसरा शख्स है।


 

Facebook Comments

NO COMMENTS