ख़तरनाक योजना : “बिना आधार कार्ड वालों को घेरकर मारेंगे” – शबनम हाशमी को सब-इंस्पेक्टर ने दी जान से मारने की धमकी

0
188


जानी-मानी सोशल एक्टिविस्ट शबनम हाशमी को एक पुलिस सब-इंस्पेक्टर ने जान से मारने की धमकी दी है।

दिल्ली पुलिस ने आजकल एक अभियान चलाया हुआ है। घेरो और मारो। इस अभियान के तहत जिसके पास आधार नंबर या कोई पहचान पत्र नहीं होगा, पुलिस उसे छोड़ेगी नहीं। यह कहना है दिल्ली पुलिस के एक पुलिसकर्मी का जिसने ख़ुद को लाजपतनगर थाने का सब-इंस्पेक्ट बताया है।

दरअसल मामला कुछ यूँ है कि मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता शबनम हाशमी के सेंटर में काम सीखने वाली एक महिला के पति के पास रात में फोन आता है। फोन करने वाला शख्स ख़ुद को सब इंस्पेक्टर बताकर लाजपत नगर थाने बुलाता है।

बाद इसके घबराए परिवार की तरफ से शबनम हाश्मी ने जब फोन करके मामले की इन्क्वारी करनी चाही तो इस पुलिस वाले ने उनके साथ भी बदतमीज़ी की।

इतना ही नहीं, बातचीत के दौरान उसने बताया कि एक अभियान के तहत जिसका आधार नंबर और एड्रेस नहीं है हम उसे कहीं भी ख़तम कर सकते हैं।

पुलिस के इस तानाशाही रवय्ये पर बात करने और जवाबदेही तय करने की मांग के साथ दिल्ली के कांस्टीट्यूशनल क्लब में आज शाम एक प्रेस कांफ्रेंस हो रही है। इस कांफ्रेंस में डॉक्टर सईदा हमीद और शबनम हाशमी समेत कई लोग शामिल होंगे।

जानी-मानी सोशल एक्टिविस्ट शबनम हाशमी को एक पुलिस सब-इंस्पेक्टर ने जान से मारने की धमकी दी है।

ऑडियो सुने :

इसका खुलासा खुद हाशमी ने एक शिकायत में किया जिसे आप नीचे पढ़ सकते है:

‘जिसका आधार नंबर और एड्रेस नहीं है हम उसे कहीं भी ख़तम कर सकते हैं’

‘एक अभियान चल रहा है घेरो और मारो’


Sub Inspector threatens to kill

Pehchan (I am one of the founding trustees) runs a small centre in Jaitpur extension and teaches school drop outs every year, coaches them to appear for 10th and 12th from Jamia. It also runs sewing classes for women.

I received a call from Director of Pehchan coaching centre at 8.59 pm. She told me that Haseen husband of one of the women (Mubina) , who had learnt stitching at our centre, got a call from a man who said that he was calling from the Lajpat Nagar police station and was a sub inspector. He threatened Haseen and called him to the police station regarding some complaint. She gave me SI’s name and number.

Usually when someone is called at night we do try and call up the police officer concerned, try and arrange a lawyer to go with whoever has been called to the police station.

I did the same. Unfortunately my telephone did not have a call recorder downloaded. The conversation which was full of abuses, using highly derogatory and uncivilized language could not be recorded. I cut the phone after 15 minutes or so and downloaded a call recorder quickly. In between the person who claimed to be the Sub Inspector Sandip Malik from Lajpat Nagar Police Station called 4 times but I didn’t pick up the phone till the recorder was downloaded.

I am attaching the recording which is self explanatory. The earlier conversation was a lot more threatening and abusive as compared to what has been recorded. I was directly threatened that I will be killed in an encounter and that there is the new law according to which whoever doesn’t have an aadhaar and address proof should be surrounded and killed (‘एक अभियान चल रहा है घेरो और मारो’ ).

The man who claimed to be the sub inspector called from mobile no 7065824289.

The conversation and the Sub Inspectors’ threat raise serious questions which the Government of the day and the Police Commissioner must answer.


साफ है की फ़ोन पर धमकी देने वाला शराब के नशे में है और अपने किसी साथी पुलिस वाले के फ़ोन का इस्तेमाल कर रहा है। वो सीधे-सीधे बिना आधार वालों को मार सकने की धमकी दे रहा है।

आधार बनवाना जहाँ स्वेच्छा पर निर्भर होना चाहिए, वहाँ आज इसके लिए लोगों को डराया-धमकाया जा रहा है।

क्या पुलिस को आधार-रहित लोगों को डराने धमकाने के लिए कहा जा रहा है……?

ये वाकई भयावह स्थिति है………।


 

Facebook Comments

NO COMMENTS