32 घंटे बाद मारा गया 1 आतंकी, अब तक सेना के 6 जवान हुए शहीद

0
3

श्रीनगर में सीआरपीएफ मुख्यालय के पास सोमवार को आतंकियों के खिलाफ शुरू हुआ एनकाउंटर मंगलवार को भी जारी है। सोमवार सुबह करीब 4.30 बजे दो-तीन आतंकियों ने सीआरपीएफ मुख्यालय में हथियारों समेत घुसने की कोशिश की थी, जिसके बाद पास की ही बिल्डिंग में एनकाउंटर चल रहा है। एनकाउंटर में एक आतंकी को मार दिया गया है।

CRPF के IG ऑपरेशन जुल्फिकार हसन ने बताया कि अभी भी एनकाउंटर चल रहा है, हम लोग नागरिकों को निकाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी नुकसान से बचने के लिए संभल कर कार्रवाई की जा रही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस IG एसपी पाणी का कहना है कि अभी ऑपरेशन अपने अंतिम दौर में चल रहा है, दो आतंकी अंदर हैं। आतंकी बिल्डिंगों के बीच में छुपे हुए हैं।

एनकाउंटर के दूसरे दिन आतंकियों पर नज़र रखने के लिए ड्रोन की मदद ली जा रही है। सुरक्षाबलों ने करन नगर के आस-पास के इलाके को घेरा हुआ है। आपको बता दें कि जिस बिल्डिंग में आतंकी छुप कर बैठे हैं, वह बिल्कुल नई बनी है। इसी कारण से अभी बिल्डिंग की खिड़कियों में शीशे नहीं है, इसलिए ड्रोन के जरिए अंदर की तस्वीरें भी साफ दिख सकती है।

सोमवार को हुए इस हमले की कोशिश में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया था। लश्कर-ए-तैयबा ने सीआरपीएफ के शिविर पर इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है। कश्मीर में इस आतंकी संगठन के सरगना ने ई-मेल के जरिए जारी बयान में कहा कि उसके लोगों ने इस हमले को अंजाम दिया है।

जम्मू स्थित सुंजवान सैन्य शिविर में तलाशी के दौरान एक और जवान का शव बरामद होने के बाद जम्मू में हुए आतंकवादी हमले के मृतकों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। सेना ने मंगलवार (13 फरवरी) को कहा कि छठे जवान का शव सोमवार शाम को तलाशी अभियान के दौरान बरामद हुआ। इसके बाद इस सैन्य शिविर पर शनिवार को हुए हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर सात हो चुकी है। इस हमले में छह जवान शहीद हो चुके हैं और एक नागरिक की जान चली गई है। इसके अलावा महिलाओं और बच्चों सहित 10 अन्य घायल हैं।

सोमवार को जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्य में हिंसा खत्म करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच नए सिरे से बातचीत की पैरवी की थी मुख्यमंत्री ने कुछ मीडिया समूहों पर निशाना साधा और दावा किया कि मीडिया ने ऐसा माहौल तैयार कर दिया जिसमें बातचीत के बारे में जिक्र करना भी राष्ट्र विरोधी मान लिया गया है।

उन्होंने राज्य विधानसभा में कहा, ‘‘अगर फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती पाकिस्तान के साथ बातचीत करने को कहते हैं तो उन्हें राष्ट्र विरोधी करार दिया जाता है। बातचीत के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है।’’


Facebook Comments

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY